ATM Full Form | 🏧 का फुल फॉर्म क्या है? जानें

ATM Full Form – संक्षिप्तशब्द एटीएम(ATM) जिसे स्वचालित टेलर मशीन(Automated teller machine) फुल फॉर्म के रूप में जाना जाता है. यह एक इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग आउटलेट है, जो ग्राहकों को बैंक से सम्बंधित पैसे की लेन -देन हेतु अनुमति प्रदान करता है,

Career Banao के इस पोस्ट में हम बात करेंगे एटीएम से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण बातें जैसे – एटीएम (ATM Full Form) का फुल फॉर्म क्या है? ATM कैसे कार्य करता है? ATM के फायदे कौन से हैं? ATM के नुकसान कौन से हैं? आदि के बारे में, तो हमारे साथ बने रहे –

ATM Full Form ATM फुल फॉर्म क्या है
ATM Full Form

ATM Full Form क्या है?

अब हम जानेंगे ATM का FULL FORM जिसे अलग-अलग टर्म के लिए संदर्भित किया जाता है वह कुछ निम्न प्रकार से है –

  • ATM – Automated Teller Machine
  • ATM – Asynchronous Transfer Mode
  • ATM – Adobe Type Manager
  • ATM – Ataxia Telangiectasia Mutated
  • ATM – Atmosphere

ATM Full Form – ATM का फुल फॉर्म हिंदी में “ऑटोमेटेड टेलर मशीन” अथवा स्वचालित टेलर मशीन कहते हैं. किन्तु इसे इसे इंग्लिश में केवल Automated teller machine के नाम से जाना जाता है.

यह खास तरह का इलेक्ट्रॉनिक मशीन जो बैंक से जुड़ा होता है, इंटरनेट के माध्यम। से इस इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग आउटलेट के जरिए कोई भी खाताधारक जिसके पास एटीएम हो वह पैसे का लेनदेन कर सकता है.

  • A – Automated
  • T – Teller
  • M – Machine

यह मुख्य रूप व्यक्ति को से बुनियादी लेनदेन की अनुमति प्रदान करता है. ATM का उपयोग करने के लिए क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड की जरूरत होती है, जिससे देश में अथवा विदेश में कहीं भी नगद कैश निकासी किया जा सकता है.

ATM Full Form in Hindi | ATM फुल फॉर्म क्या है?

ATM Full Form in Hindi – एटीएम के होने से खाताधारकों को लेनदेन करने में काफी ज्यादा सहजता और सुविधा होती है वास्तव में एटीएम काफी सुविधाजनक है.

  • A – स्वचालित
  • T – टेलर
  • M – मशीन

इसके माध्यम से उपभोक्ता पैसे की जमा, पैसे की निकासी, बिल भुगतान, एक खाते से दूसरे खाते के बीच पैसे का स्थानांतरण, बहुत ही आसानी से कर सकता है बिना बैंक में गए। हिंदी भाषा में ATM को “स्वचालित टेलर मशीन” कहते हैं. वैसे आपको बता दें, कि दुनिया भर में बहुत सारे एटीएम हैं.

ATM को दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में ABM यानी automated bank machines अथवा कैश मशीन के नाम से भी जाना जाता है. इन्हे बैंक के द्वारा स्थापित किया जाता है. ATM को ऑनलाइन माध्यम से कैमरा के जरिये मॉनिटर भी किया जाता है, जिसका जिम्मा सम्बंधित बैंक के सिक्योरिटी सिस्टम के अंतर्गत होता है.

ATM 🏧 के प्रकार –

मुख्य रूप से वर्तमान समय में ATM के दो प्रकार हैं –

  1. Onsite ATM
  2. Offsite ATM

Onsite ATM – Onsite ATM जिन्हें बैंक परिसर के अंदर स्थापित किया जाता है जिनके जरिए अधिक जटिल इकाइयां, नगद या चेक जमा करना, लाइन आफ क्रेडिट करना, बिल भुगतान करना आदि सुविधाएं प्रदान की जाती है.

Offsite ATM – Offsite ATM बैंक के बाहर सड़कों पर, चौराहों पर शहरों में स्थापित करते हैं, यह Automated teller machine जिसका इस्तेमाल सामान्य रूप से नकदी निकालने, शेष धनराशि को चेक करने, खाता संख्या का पिन बदलने, मिनी स्टेटमेंट चेक करने, खाता को अपडेट करने, एक खाते से दूसरे खाते में पैसा ट्रांसफर करने, आदि के लिए इस्तेमाल करते हैं.

ATM से सम्बंधित कुछ खास बिंदू –

  • ATM यानी स्वचालित टेलर मशीन एक खास तरीके का इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग आउटलेट है, जो उपभोक्ता को पैसे की लेनदेन करने हेतु अनुमति देता है.
  • कुछ एटीएम सरल नगद डिस्पेंसर होते हैं जबकि कुछ खास तरह के के ATM के जरिए चेक जमा, बैलेंस ट्रांसफर और बिल भुगतान भी किया जा सकता है.
  • पहला ATM यानी स्वचालित टेलर मशीन(Automated teller machine) 1960 के दशक में लगाया गया था.
  • पूरे विश्व में ATM की संख्या मौजूदा समय में 2 बिलियन से भी अधिक है।
  • स्वचालित टेलर मशीन(Automated teller machine) यानी ATM वर्तमान समय में इस बदलते डिजिटल वर्ल्ड में एक चमत्कार है, जो मिनी बैंकिंग होने के साथ ही साथ पैसे की नगद लेनदेन की सुविधा देता है.
  • ATM शुल्क कम करने के लिए जितनी बार संभव हो अपने स्वयं के बैंक द्वारा ब्रांडेड एटीएम का इस्तेमाल करना चाहिए।

ATM से जुडी सामान्य चीज –

1960 के मध्य में स्थापित हुए एटीएम को कैश डिस्पेंसर के नाम से जाना जाता था. पहला एटीएम 1967 में लंदन केबार्कलेज बैंक की शाखा में स्थापित किया गया था.

इंटरबैंक संचार नेटवर्क जिसके जिसने एक उपभोक्ता को दूसरे बैंक के एटीएम पर एक बैंक के कार्ड का उपयोग करने की अनुमति दी थी यानी किसी भी बैंक का एटीएम किसी दूसरे बैंक के एटीएम में इस्तेमाल होने की अनुमति।

1970 के दशक में समय बढ़ने के साथ ATM का विकास काफी तेजी से हुआ इसे शहरों में सबसे पहले लाया गया, बड़े शहरों के साथ अब ये वर्तमान समय में इसे छोटे शहरों, चौराहों पर भी स्थापित कर दिया गया है,

ताकि उपभोक्ता को नगद पैसे की लेनदेन ऑनलाइन माध्यम से करने में परेशानी ना हो और बेवजह बैंक के चक्कर ना काटे,

इस प्रकार हम कह सकते हैं कि ATM यानी स्वचालित टेलर मशीन(Automated teller machine) जिसे हम एक मिनी बैंक के नाम से जान सकते हैं.

ATM के फायदे और नुकसान –

ATM, जिसे Automated Teller Machine, आधुनिक बैंकिंग की एक सर्वव्यापी विशेषता बन गई है। यहां एटीएम के कुछ फायदे और नुकसान हैं:

Pros:

सुविधा: एटीएम बैंकिंग सेवाओं तक 24/7 पहुंच प्रदान करते हैं, जिससे ग्राहक नकदी निकाल सकते हैं, अपने खाते की शेष राशि की जांच कर सकते हैं और अपनी सुविधानुसार अन्य लेनदेन कर सकते हैं।

अभिगम्यता: एटीएम कई सुविधाजनक स्थानों जैसे शॉपिंग सेंटर, हवाई अड्डे और गैस स्टेशनों पर स्थित हैं, जिससे वे ग्राहकों के लिए आसानी से सुलभ हो जाते हैं।

समय की बचत: एटीएम का उपयोग करने से ग्राहकों का समय बच सकता है, अन्यथा वे बैंक या टेलर की कतार में प्रतीक्षा करते हुए समय व्यतीत करेंगे।

सुरक्षा: एटीएम ग्राहकों को अपने पैसे का उपयोग करने के लिए अपेक्षाकृत सुरक्षित तरीका प्रदान करते हैं। आधुनिक एटीएम उन्नत सुरक्षा सुविधाओं से लैस हैं, जैसे एन्क्रिप्शन और कार्ड स्किमिंग रोकथाम के उपाय।

Cons:

शुल्क: कई एटीएम लेनदेन के लिए शुल्क लेते हैं, जैसे कि निकासी और शेष राशि पूछताछ। ये शुल्क समय के साथ बढ़ सकते हैं, खासकर उन ग्राहकों के लिए जो अक्सर एटीएम का उपयोग करते हैं।

धोखाधड़ी: एटीएम धोखाधड़ी के प्रति संवेदनशील हो सकते हैं, जैसे कि कार्ड स्किमिंग, जहां अपराधी ग्राहकों के कार्ड की जानकारी चुराने के लिए उपकरणों का उपयोग करते हैं।

तकनीकी खराबी: एटीएम खराब हो सकता है, जो ग्राहकों के लिए निराशाजनक हो सकता है। इसके परिणामस्वरूप लेन-देन संसाधित नहीं हो रहा है, पैसा मशीन में फंस गया है या अन्य समस्याएं हो सकती हैं।

सीमित सेवाएं: जबकि एटीएम कई बुनियादी बैंकिंग सेवाएं प्रदान करते हैं, वे अधिक उन्नत सेवाएं प्रदान नहीं कर सकते हैं, जैसे कि एक नया खाता खोलना या ऋण के लिए आवेदन करना।

कुल मिलाकर, एटीएम ग्राहकों को सुविधा और पहुंच जैसे कई लाभ प्रदान करते हैं। हालांकि, एटीएम का उपयोग करते समय ग्राहकों को शुल्क और धोखाधड़ी जैसी संभावित कमियों के बारे में भी पता होना चाहिए।

ATM card के प्रकार

आपको बता दें, कि एटीएम कार्ड कई अलग-अलग प्रकार के होते हैं जिसमें डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, प्रीपेड कार्ड, गिफ्ट कार्ड, स्मार्ट कार्ड, ट्रेवल कार्ड आदि शामिल है. जिसके बारे में हम विस्तार से संक्षिप्त में चर्चा करने वाले हैं चलिए जानते हैं –

एटीएम कार्ड कई प्रकार के होते हैं, जिनमें शामिल हैं:

डेबिट कार्ड – एक चेकिंग खाते से जुड़ा हुआ है, और इसका उपयोग नकदी निकालने और खरीदारी करने के लिए किया जा सकता है।

क्रेडिट कार्ड – कार्डधारक को कार्ड जारीकर्ता से एक निश्चित सीमा तक पैसा उधार लेने की अनुमति देता है, और उसे ब्याज सहित वापस चुकाना होता है।

प्रीपेड कार्ड – पहले से धन के साथ लोड किया जा सकता है, और शेष राशि समाप्त होने तक नकद निकालने या खरीदारी करने के लिए उपयोग किया जा सकता है।

उपहार कार्ड – एक विशिष्ट धनराशि के साथ प्रीपेड कार्ड, जिसे अक्सर उपहार या प्रचारक मद के रूप में दिया जाता है।

स्मार्ट कार्ड – इसमें एक माइक्रोचिप होती है जो अधिक सुरक्षित लेनदेन के लिए धन और व्यक्तिगत जानकारी सहित डेटा को स्टोर कर सकती है।

यात्रा कार्ड – मुद्रा रूपांतरण और एटीएम शुल्क छूट जैसी सुविधाओं के साथ अंतर्राष्ट्रीय यात्रा के लिए डिज़ाइन किया गया एक प्रीपेड कार्ड।

ध्यान दें कि इस प्रकार के एटीएम कार्ड की उपलब्धता देश या क्षेत्र के आधार पर भिन्न हो सकती है।

ATM FULL FORM – खास प्रश्न

ATM फुल फॉर्म क्या है?

ATM फुल फॉर्म – “ऑटोमेटेड टेलर मशीन” होता है।

पहला ATM कब स्थापित हुआ?

पहला ATM 1960 के दशक में स्थापित हुआ थाl

एटीएम को हिंदी में क्या बोलते हैं?

एटीएम को हिंदी में ऑटोमेटेड टेलर मशीन या स्वचालित टेलर मशीन भी कहा जाता है. यह एक खास तरीके की कंप्यूटराइज मशीन है जिससे पैसे के लेनदेन के लिए इस्तेमाल किया जाता है. आजकल कुछ ऐसी भी मशीनें आ गए हैं जिसके जरिए कैश डिपॉजिट और निकासी दोनों संभव है. इसके अलावा इससे हम जरूरत पड़ने पर तुरंत अपने खाते का स्टेटस भी चेक कर सकते हैं.

आशा है कि मेरे द्वारा ATM Full Form | ATM फुल फॉर्म क्या है? के बारे में दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी ऐसे ही लेटेस्ट सरकारी जॉब, सरकारी योजना व अपकमिंग जॉब्स की अपडेट पाने के लिए कैरियर बनाओ Careerbanao.net को जरूर बुकमार्क करें।

Leave a Comment