IPS Full Form 👮‍♀️क्या है? पद, कार्य, कैसे बनें, सैलरी जानें?

IPS Full Form: क्योंकि आजकल सोशल मीडिया का जमाना है ऐसे में आपने अक्सर लोगों के मुंह से आईपीएस शब्द का इस्तेमाल करते हुए सुना ही होगा। आपने भी यह गौर किया होगा कि आपके जिले में समय-समय पर नए आईपीएस अधिकारियों का तबादला होता रहता है। लेकिन क्या IPS Full Form आपको पता है?

यदि नहीं, तो आप बिल्कुल सही जगह आए हैं क्योंकि आज के इस लेख में हम आपको आईपीएस से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण बातें जैसे IPS Full Form in Hindi, आईपीएस बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए? आईपीएस की क्या उत्तरदायित्व होते हैं और एक आईपीएस अधिकारी को कितनी सैलरी मिलती है? इत्यादि का संपूर्ण विवरण प्रदान करेंगे।

अतः आप सभी से आग्रह है कि IPS Ka Full Form व अन्य सभी जानकारी के लिए इस पेज को अंत तक विजिट करें तथा ऐसी अन्य ज्ञानवर्धक लेखों के लिए सरकारी रिजल्ट पेज को बुकमार्क करना न भूलें।

IPS Full Form in Hindi
IPS Full Form in Hindi

IPS Full Form in Hindi का संक्षिप्त विवरण

  • पद का नाम हिंदी में – भारतीय प्रशासनिक सेवा
  • पद का नाम अंग्रेज़ी में – Indian Police Services
  • संक्षिप्त नाम – आईपीएस
  • लेख का नाम – IPS Full Form : आईपीएस का फुल फॉर्म, क्या होता है, कैसे बनें, सैलरी जानें?
  • परीक्षा कराने वाला आयोग – संघ लोक सेवा आयोग
  • योग्यता – स्नातक
  • वेतन – एंट्री लेवल वेतन ₹56000
  • मुख्य कार्य – जिले में कानून और व्यवस्था बनाये रखना

IPS क्या होता है?

यह प्रमुख भारतीय सेवाओं के तीन अंगों IAS, IFoS और IPS में से एक है। इसका मुख्य नियंत्रक प्राधिकरण भारत सरकार का गृह मंत्रालय होता है। 1948 से पहले यह Indian Imperial Police हुआ करता था। उसके बाद इसका स्थान आईपीएस ने ले लिया।

एक आईपीएस ऑफिसर को अपने क्षेत्र में कानून और व्यवस्था का ध्यान रखते हुए नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का मुख्य उत्तरदायित्व होता है। इसके अतिरिक्त यह राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के सभी पुलिस बलों, सीएपीएफ बलों जैसे बीएसएफ, एसएसबी, सीआरपीएफ, सीआईएसएफ और आइटीबीपी तथा राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड को भी एक बेहतर कमान और नेतृत्व प्रदान करता हैं। ताकि यह लोग सक्रियता के साथ देश-प्रदेश के नागरिकों की सेवा कर सके।

आईपीएस अधिकारी बनने के लिए आपको यूपीएससी द्वारा आयोजित सिविल सर्विस की परीक्षा पास करनी होती है। यह सिविल सेवा परीक्षा की सूची में शामिल 24 सेवाओं में दूसरा स्थान रखता है।

IPS Full Form क्या होता है?

3 अक्षरों को अपने आप में समेटे हुए IPS में I का मतलब Indian, P का मतलब Police तथा S का मतलब Service होता है अर्थात IPS Full Form अंग्रेजी में Indian Police Service होता है हिंदी में इसको भारतीय पुलिस सेवा कहा जाता है।

आईपीएस कैडर के अंतर्गत उम्मीदवारों को सबसे पहले DSP, ASP, SP, SSP, DIG, IGP, ADGP, DGP, DIB पदों पर क्रमानुसार पदोन्नत किया जाता है। हालांकि आजकल सिविल सेवा परीक्षा में बहुत ज्यादा चुनौतियां आ गई है। ऐसे में इस सेवा से यदि आप जुड़ना चाहते हैं तो आपको कड़ी मेहनत, लगन और एक बेहतर मार्गदर्शन की आवश्यकता होगी।

I ForIndian (भारतीय)
P ForPolice (पुलिस)
S ForService (सेवा)

आईपीएस अधिकारी के कार्य

आपको बता दें कि आईपीएस भारत की सम्मानित और प्रतिष्ठित सेवाओं में से एक है। IAS के बाद इसी का नंबर आता है। इसीलिए सरदार बल्लभ भाई पटेल ने इसे भारत के कानून और व्यवस्था, अखंडता, शांति और संप्रभुता बनाये रखने हेतु आईएएस के साथ-साथ भारतीय लोकतंत्र के सबसे बुनियादी स्तंभों में से एक के रूप में परिभाषित किया है। एक आईपीएस अधिकारी के निम्नलिखित कार्य होते हैं:-

  • शांति और व्यवस्था बनाए रखना – एक आईपीएस अधिकारी अपराधों को रोककर सार्वजनिक व्यवस्था और शांति बनाए रखने का महत्वपूर्ण कार्य करता हैं।
  • सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में रॉ, आईबी, सीबीआई, सीआईडी ​​और सीएपीएफ का कुशल नेतृत्व और कमान संभालना।
  • सीमा सेवाओं से जुड़ा कार्य।
  • वीआईपी सुरक्षा हेतु पुख्ता इंतज़ाम।
  • आर्थिक अपराध को रोकना जैसे भ्रष्टाचार इत्यादि।
  • जांच संबंधी सभी कार्य।
  • उपरोक्त कार्यों के अलावा, केंद्र और राज्य के तहत विभिन्न मंत्रालयों और विभागों में नीति निर्माण में यह एचओडी (Head of Department) के रूप में भी कार्य करता है।

आईपीएस बनने के लिये योग्यता

आईपीएस अधिकारी बनने के लिये आपके पास निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए:-

  • अभ्यर्थी को भारत का मूल नागरिक होना चाहिए।
  • आवेदक के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी स्ट्रीम से न्यूनतम स्नातक की डिग्री या समकक्ष योग्यता होनी चाहिए।
  • जो उम्मीदवार अपनी स्नातक के अंतिम वर्ष या सेमेस्टर में हैं वो परीक्षा देकर परिणाम का इंतज़ार कर रहे हैं वो भी इसकी परीक्षा में बैठ सकते हैं।
  • सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष तथा अधिकतम 32 वर्ष तक होनी चाहिए। जबकि अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/अन्य पिछड़ा वर्ग, आदि और पीएच समूहों के लिए आयु-सीमा में UPSC के नियमानुसार छूट मिलती है।
  • यूपीएससी द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा में अभ्यर्थियों को वर्ग के अनुसार निम्नलिखित अटेम्प मिलते हैं-
अभ्यर्थी का वर्गकुल अटेम्प
सामान्य वर्ग6 बार
ओबीसी वर्ग9 बार
एससी / एसटी वर्ग39 वर्ष की आयु तक असीमित बार
  • अभ्यर्थी को निम्न शारीरिक मानदंडों को पूरा करना चाहिए।
वर्गपुरुष के लिए अर्हतामहिला के लिए अर्हता
ऊँचाई165 सेमी सामान्य वर्ग के लिए, 160 सेमी अन्य वर्ग के लिए150 सेमी सामान्य वर्ग के लिए, 145 सेमी अन्य वर्ग के लिए
चेस्टन्यूनतम 84 सेमी (फुलाव 5 सेमी)न्यूनतम 79 सेमी (फुलाव 5 सेमी)
दृष्टि6/6 या 6/9 डिस्टेंस विजन अच्छी आँख के लिए6/12 या 6/9 खराब आँख के लिए

How to become an IPS Officer – आईपीएस अधिकारी कैसे बनें?

एक आईपीएस अधिकारी बनने के लिए आपको सिविल सेवा परीक्षा पास करनी होती है। यह परीक्षा निम्नलिखित तीन चरणों में पूरा होती है-

प्रारंभिक परीक्षा

यह बहुविकल्पिय प्रकार की परीक्षा होती ह। इसमें दो पेपर 200 अंकों के होते हैं। यह केवल क्वालीफाई करना आवश्यक होती है। मेरिट में इसके अंक जोड़े नहीं जाते हैं। इसे नीचे दिये गये टेबल से आप आसानी से समझ सकते हैं-

पेपरकुल प्रश्नों की संख्याअवधिअधिकतम अंकनेगेटिव मार्किंगभाषा/माध्यमकट-ऑफ मार्क
पेपर -1 (GS – I)1002 घंटा2001/3 या 0.67अंग्रेज़ी/हिंदीमेरिट की गणना में लिया जाता है।
पेपर – 2 (GS – II/CSAT)802 घंटा2001/3 या 0.67अंग्रेज़ी/हिंदी33% (क्वालिफ़ाइंग नेचर)

मुख्य परीक्षा

जो अभ्यर्थी प्रारंभिक परीक्षा में पास हो जाते हैं उन्हें मेरिट के अनुसार मुख्य लिखित परीक्षा के लिए बुलाया जाता है। CSE की इस परीक्षा में कुल 9 पेपर होते हैं जिनमें दो पेपर (भारतीय भाषा और अंग्रेजी भाषा) क्वालिफ़ाइंग नेचर के होते हैं। नीचे टेबल के माध्यम से इसे आप और बेहतर समझ सकते हैं।

पेपर का नामसिलेबसअवधिनिर्धारित अंक
Paper – A : भारतीय भाषा (संविधान की 8वीं अनुसूची में उल्लिखित 22 भाषाओं में से चुनी गई भारतीय भाषाओं में से एक)निबंध, कॉम्प्रिहेंशन, संक्षिप्त लेखन, उपयोग और शब्दावली, आदि।3 घंटा300 अंक
Paper- B : अंग्रेजीनिबंध, कॉम्प्रिहेंशन, संक्षिप्त लेखन, उपयोग और शब्दावली, आदि।3 घंटा300 अंक
Paper-1 : Essayइसका कोई निर्धारित सिलेबस नहीं है।3 घंटा250 अंक
Paper-2 General studies 1भारतीय कला और संस्कृति, विश्व का इतिहास और भूगोल, समाज3 घंटा250 अंक
Paper-3 General studies 2संविधान और शासन, राजनीति, सामाजिक न्याय और IR।3 घंटा250 अंक
Paper-4 General studies 3आर्थिक विकास, प्रौद्योगिकी, पर्यावरण और पारिस्थितिकी, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन3 घंटा250 अंक
Paper-5 General studies 4नैतिकता, ईमानदारी और योग्यता3 घंटा250 अंक
Paper-6 Optional paper-1 3 घंटा250 अंक
Paper-7 Optional paper-2 3 घंटा250 अंक
कुल मुख्य परीक्षा का अंक1750
इंटरव्यू275 अंक
कुल2025 अंक

साक्षात्कार

मुख्य परीक्षा में पास अभ्यर्थी साक्षात्कार में भाग लेते हैं। यह 275 अंकों का होता है। इसमें उम्मीदवारों को उनकी महत्वपूर्ण सोच क्षमताओं, दिमाग की उपस्थिति इत्यादि के स्तर पर परीक्षण किया जाता है।

आईपीएस की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है?

एक आईपीएस (भारतीय पुलिस सेवा) अधिकारी की मासिक सैलरी निर्धारित वेतन बंध के अनुसार सेवा शुरू करने के बाद स्थिति और पदाधिकार के आधार पर भिन्न-भिन्न हो सकती है।

आईपीएस अधिकारियों की सैलरी संबंधित वेतन वेतनमान आयोग द्वारा तय की जाती है। आमतौर पर, एक नया आईपीएस अधिकारी अपनी सेवा की शुरुआत में ग्रेड पे 3 के तहत रहता है।

नीचे दिए गए तालिका में, एक ग्रेड पे 7 आईपीएस अधिकारी की मासिक सैलरी का उदाहरण दिया गया है:

  • मासिक बेसिक वेतन: रुपये 56,100 से 2,25,500 तक
  • ग्रेड पे प्राथमिक: रुपये 5400
  • ग्रेड पे: रुपये 56,100
  • महंगाई भत्ता: आधार परिवर्तनशील (सामान्यतः 17 फीसदी तक)
  • दूरसंचार भत्ता: रुपये 5,000 तक
VDO FULL FORMCDS FULL FORM
SSC FULL FORMBSC FULL FORM
IAS FULL FORMCPU FULL FORM
BDC FULL FORMB.Ed full form
ITI FULL FORMUPI FUL FORM
DM FULL FORMICU FULL FORM
ED FULL FORMGMAIL FULL FORM
MBBS FULL FORMUNESCO FULL FORM
UPSC FULL FORMMSME FULL FORM
RIP FULL FORMMLC FULL FORM

IPS Full Form से जुड़े प्रश्न

आईपीएस का फुल फॉर्म क्या है?

आईपीएस का फुल फॉर्म Indian Police Service होता है। हिंदी में इसे भारतीय पुलिस सेवा कहा जाता है।

IPS कितने साल का कोर्स है?

आपको बता दें कि यह कोई कोर्स नहीं होता है जब आप इसकी परीक्षा पास कर लेते हैं तो आपको लगभग 2 वर्ष की ट्रेनिंग दी जाती है।

आईपीएस ऑफिसर का काम क्या होता है?

इसका कार्य जिले में कानून और न्यान व्यवस्था बनाये रखना होता है। अन्य कार्य निम्न हैं-
1- शांति और व्यवस्था बनाए रखना
2- सीमा सेवा
3- आर्थिक अपराध को रोकना जैसे भ्रष्टाचार इत्यादि।
4- जांच संबंधी सभी कार्य इत्यादि।

IPS के लिए कौन सी डिग्री चाहिए?

इसके लिए स्नातक की डिग्री किसी भी स्ट्रीम में होनी चाहिए।

IPS की सैलरी कितनी?

इसकी बेसिक सैलरी ₹56,100 से शुरू होकर ₹2,25,000 तक होती है।

दोस्तों आज के इस लेख में हमने IPS Full Form in Hindi से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण बातें आपके साथ शेयर की, उम्मीद है कि आपको जानकारी पसंद आयी होगी। ऐसी ही अन्य जानकारी के लिए CareerBanao.Net को बुक्मार्क करें, धन्यवाद।

Leave a Comment