NCERT full form | एनसीईआरटी (ncert ka full form) का फुल फॉर्म क्या है?

NCERT full form – एनसीईआरटी जो भारतीय स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में एक अति महत्वपूर्ण और चर्चित नाम है इसका हिंदी में पूरा नाम “राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद” होता है जबकि अंग्रेजी में इसे “National Council of Educational Research and Training” कहा जाता है.

भारतीय स्कूली क्षेत्र से संबंधित इसे मिनिस्ट्री ऑफ एजुकेशन भारत सरकार द्वारा 27 जुलाई 1961 में ऑफिस से रूप से प्रारंभ किया गया था.

NCERT full form एनसीईआरटी (ncert ka full form) का फुल फॉर्म क्या है
NCERT ka full form

यहां पर हम इससे (ncert full form, ncert ka full form) जुड़े कुछ रोचक तथ्य और शिक्षा के क्षेत्र में यह किस प्रकार से महत्वपूर्ण है इससे जुड़े कुछ खास बिंदु के बारे में विस्तार से चरणबद्ध तरीके से बात करेंगे अतः इस पोस्ट को पूरा पढ़ें –

NCERT full form- संक्षिप्त विवरण

⦿ नाम हिंदी में – एनसीईआरटी
⦿ संक्षिप्त नाम – NCERT
⦿ लेख का नाम – एनसीईआरटी (ncert ka full form) का फुल फॉर्म क्या है?
⦿ यह किस क्षेत्र से सम्बन्ध रखता है – शिक्षा के क्षेत्र से
⦿ स्थापना – 1961 में
⦿ यह किसके कार्यक्षेत्र में आता है – शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार
⦿ ऑफिशियल वेबसाइट – @ncert.nic.in

एनसीईआरटी (ncert ka full form) का फुल फॉर्म क्या है?

भारत के शिक्षा के क्षेत्र से संबंध रखने वाला एनसीईआरटी जिसे इस का फुल फॉर्म नेशनल काउंसिल आफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग होता है.

इसे 1961 में भारत सरकार द्वारा स्थापित किया गया यह एक स्वायत्त संगठन है एनसीईआरटी का मुख्यालय दिल्ली में है. इसकी स्थापना शिक्षा के क्षेत्र में अहम सुधार और बेहतर गुणवत्ता के उद्देश्य से किया गया था.

NNational
CCouncil
EEducational
RResearch
TTraining

वर्तमान समय में एनसीईआरटी संगठन में दुनिया के कई सारे शिक्षाविद और विद्वान शामिल हैं, इसे बनाने के पीछे भारत सरकार का मुख्य उद्देश्य पूरे देश में सभी छात्रों के लिए एक समान शिक्षा प्रणाली तैयार करना था, जिससे भारत जैसे महान राष्ट्र में सांस्कृतिक विविधता को बढ़ावा दिया जा सके और इसे शिक्षा के माध्यम से एकजुट किया जा सके.

एनसीईआरटी सीबीएसई छात्रों के लिए कई को पूर्ति करता है जैसे कि मॉडल पुस्तकों का प्रकाशन, पूरी सामग्री आदि. इसे सीबीएसई के अलावा कई राज्य स्तरीय शिक्षा बोर्ड फॉलो करते हैं.

IIT, NEET, UPSC जैसे बड़े प्रतियोगी परीक्षा के लिए स्टूडेंट्स एनसीईआरटी फॉलो करते हैं और पुस्तकों को पढ़ते हैं। NCERT पुस्तकों की खास बात यह है की यह बहुत ही सरल तरीके से किसी भी टॉपिक वाइज लिखी गई होती है जिससे स्टूडेंट्स को एक नजर में किसी भी टॉपिक से जुडी जानकारी आसानी से यह हो जाती है और समझ में भी आ जाती है.

NCERT की स्थापना कब की गई?

एनसीईआरटी यानी राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद की स्थापना भारतीय शिक्षा व्यवस्था को दरूस्त करने के लिए 27 जुलाई 1961 को भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा स्थापित किया गया. NCERT ka Moto संस्कृत में मोटो “विद्यया अमृतमश्नुते” है.

एनसीईआरटी की स्थापना हुई इसके जरिए शिक्षा के क्षेत्र में बेहतर गुणवत्ता और सुधार के लिए भारत सरकार द्वारा 510 करोड रुपए 2022-2023 के बजट के अनुसार इसके लिए अलॉट किया गया.

वर्तमान समय में भारत का शिक्षा मंत्रालय धर्मेंद्र प्रधान के अंतर्गत कार्यशील है. एनसीईआरटी के डायरेक्टर Dr. Dinesh Prasad Saklani है. नेशनल काउंसिल आफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग स्थापित करने में इन सात संगठनों का सबसे महत्वपूर्ण और अहम योगदान रहा –

  • केंद्रीय शिक्षा संस्थान
  • केंद्रीय ब्यूरो पाठ्यपुस्तक अनुसंधान
  • केंद्रीय शैक्षिक और व्यावसायिक मार्गदर्शन ब्यूरो
  • माध्यमिक शिक्षा के लिए विस्तार कार्यक्रम निदेशालय
  • राष्ट्रीय बुनियादी शिक्षा संस्थान
  • राष्ट्रीय मौलिक शिक्षा केंद्र
  • राष्ट्रीय श्रव्य-दृश्य शिक्षा संस्थान

शिक्षा में एनसीईआरटी की क्या भूमिका और रोचक तथ्य –

⦿ NCERT ka full form राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद है।

⦿ एनसीईआरटी भारत सरकार के अधीन एक स्वायत्त संगठन है, जिसकी स्थापना 1961 में हुई थी।

⦿ एनसीईआरटी का मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है।

⦿ एनसीईआरटी पाठ्यपुस्तकों, शैक्षिक किट, ऑनलाइन सामग्री और अन्य शैक्षिक सहायक सामग्री सहित गुणवत्तापूर्ण शैक्षिक संसाधनों को विकसित करने और बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार है।

⦿ भारत में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) और कई राज्य बोर्डों से संबद्ध स्कूलों में एनसीईआरटी पाठ्यपुस्तकों का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

⦿ एनसीईआरटी पाठ्यपुस्तकों को विभिन्न विषयों में शामिल अवधारणाओं और विषयों की व्यापक समझ प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

⦿ एनसीईआरटी की पाठ्यपुस्तकें अंग्रेजी और हिंदी दोनों माध्यमों में उपलब्ध हैं।

⦿ एनसीईआरटी शिक्षा के विभिन्न पहलुओं में अनुसंधान भी करता है और शिक्षकों और शिक्षक प्रशिक्षकों को प्रशिक्षण प्रदान करता है।

⦿ एनसीईआरटी ने ई-लर्निंग को बढ़ावा देने और भारत में शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए कई डिजिटल पहलें विकसित की हैं।

⦿ एनसीईआरटी विभिन्न राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाएं भी आयोजित करता है, जिसमें राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा (एनटीएसई) भी शामिल है, जो दसवीं कक्षा के छात्रों के लिए एक छात्रवृत्ति परीक्षा है।

NCERT Ka full form – इतिहास

एनसीईआरटी के इतिहास के बारे में चर्चा करें, तो 27 जुलाई 1961 को स्थापित हुए इसे 1 सितंबर 1961 को औपचारिक रूप से इसका संचालन शुरू किया गया था.

इस परिषद का संगठन मौजूदा सरकारी राष्ट्रीय स्तर के संस्थानों द्वारा किया गया जिसमें केंद्रीय शिक्षा संस्थान, केंद्रीय पाठ्यपुस्तक अनुसंधान ब्यूरो, केंद्रीय शैक्षिक और व्यवसायिक मार्गदर्शन ब्यूरो, माध्यमिक शिक्षा के लिए विस्तार कार्यक्रम निदेशालय और राष्ट्रीय बुनियादी शिक्षा का संस्थान यह सभी सम्मिलित हैं.

NCERT की किताबें किस क्लास के लिए होती हैं?

एनसीईआरटी पैटर्न पर आधारित किताबें कक्षा 1 से लेकर कक्षा 12 तक के लिए होते हैं. जबकि कक्षा 10 और 12 हेतु स्टूडेंट्स को बोर्ड की परीक्षा से गुजरना पड़ता है.

वर्तमान समय तक 14 राज्यों के लगभग 19 स्कूल बोर्ड द्वारा एनसीईआरटी पैटर्न पर आधारित पुस्तकों को अपना लिया गया है. ये पुस्तकें रंगीन प्रिंट में आती हैं जो सस्ते दामों पर आसानी से किसी नजदीकी अच्छे बुक स्टोर पर प्राप्त की जा सकती हैं.

Ncert का मुख्य कार्य क्या है?

एनसीईआरटी के मुख्य कार्य सोसायटी पंजीकरण अधिनियम 1961 के अनुसार साहित्य वैज्ञानिक और धर्मार्थ समाज के रूप में स्थापित प्रारंभिक बचपन शिक्षा, राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा, बालिका शिक्षा, प्राथमिक शिक्षा, व्यवसायिक शिक्षा आदि में गुणवत्ता पूर्ण सुधार करना।

एनसीईआरटी के उद्देश्य

ncert full form in hindi यानी राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद का मुख्य उद्देश्य निम् प्रकार से है –

⦿ स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में कार्यकारी अनुसंधान को बढ़ावा देना और संचालित करना।
⦿ राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा पाठ्यक्रम और पाठक पुस्तकों का विकास करना।
⦿ शिक्षण अधिगम सामग्री प्रशिक्षण मॉडल ऑडियो और वीडियो सामग्री उपलब्ध करवाना।
⦿ मॉडल पुस्तकें, पूरक सामग्री, समाचार पत्र, पत्रिकाएं तैयार करना और उसे प्रकाशित करना।
⦿ शिक्षकों के लिए सेवा प्रशिक्षण आयोजित करवाना।
⦿ नवीन शैक्षिक तकनीकों और प्रथाओं का विकास करना और उसे प्रसारित करना।
⦿ स्कूली शिक्षा के संबंधित मामलों के लिए निर्णय लेने के रूप में कार्य करना।

NCERT full form in Hindi – खास प्रश्न

एनसीईआरटी का हिंदी में क्या कहते हैं?

एनसीईआरटी को हिंदी में “राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद” करते हैं जो भारत सरकार द्वारा स्थापित एक संस्था ने जो स्कूली शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े मामलों पर केंद्र सरकार एवं प्रांतीय सरकार को सलाह देने के लिए बनाया गया था इसे 1961 में स्थापित किया गया.

एनसीईआरटी कब लागू हुआ?

एनसीईआरटी का गठन 27 जुलाई 1961 को किया गया किंतु औपचारिक रूप से 1 सितंबर 1961 को लागू किया गया.

ncert full form in education

शिक्षा में एनसीईआरटी पूर्ण रूप – हिंदी में “राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद” अंग्रेजी में “National Council of Educational Research and Training” है.

आशा है कि मेरे द्वारा NCERT full form | एनसीईआरटी (ncert ka full form) का फुल फॉर्म क्या है? के बारे में दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी ऐसे ही लेटेस्ट सरकारी जॉब, सरकारी योजना व अपकमिंग जॉब्स की अपडेट पाने के लिए कैरियर बनाओ Careerbanao.net को जरूर बुकमार्क करें।

Leave a Comment